Phalada Agro – यूएस-जर्मनी तक पहुंचाई भारतीय मसालों की महक, एक डूबती Vermicompost Unit को बनाया Organic Brand

By Preeti | 22 sec read

Read this post in English – Phalada Agro

बिजनेस में एक आईडिया किस्मत बदल सकता है, लेकिन उस किस्मत को बदलने के लिए जरुरी है सही समय पर रिस्क लेना। जैसा बिजनेसमैन CMN Shastry ने किया था। CMN Shastry ने उस समय एग्रीकल्चर मार्केट में एंट्री कि जिस समय किसानों की हालत काफी खराब थी और इस तरह की कंपनियां ना के बराबर थी जो एग्रीकल्चर बिजनेस में इनवेस्ट करती थी।

2 साल तक लैदर बिजनेस करने के बाद साल 1999 में 41 साल के CMN Shastry एग्रीकल्चर सेक्टर में एक अवसर की तलाश कर रहे थे, ताकि वो इस सेक्टर में एंट्री कर सके। उस समय एक Vermicompost Manufacturing कंपनी घाटे की वजह से सेल में थी, CMN Shastry ने इस मौके का फायदा उठाया और खाद बनाने वाली इस कंपनी को खरीद लिया।

Phalada Agro
Image source – Website

Organic Products का एक्सपोर्ट

1999 में इस एग्रीकल्चर बिजनेस को शास्त्री जी ने महज 30 लाख में शुरु किया था। जो आज Phalada Agro Research Foundation Pvt. Ltd के नाम से जाना जाता है और जिसका सालाना टर्नओवर 70 करोड़ से भी ज्यादा है।

बैंगलुरु स्थित Phalada Agro आज देश के चौदह सौ से ज्यादा किसानों के साथ काम करती है और अलग-अलग तरह के ऑर्ग्रेनिक प्रोड्क्ट बेचती है, जिसमें मसाले, दाले, फल, तेल और अनाज शामिल हैं। खास बात ये है कि कंपनी इन प्रोडेक्ट्स को देश में बेचने के अलावा 20 और देशों को भी एक्सपोर्ट करती है।  

Phalada Agro
Image Source – Instagram

Organic Coffee के साथ शुरु किया बिजनेस

CMN Shastry ने बिजनेस मैनेजमेंट पढ़ाई पूरी करने के बाद 2 साल तक लेदर के बिजनेस में काम किया और इसके बाद 1 हजार स्क्वायर फुट में फैले vermicompost से फ़र्टिलाइज़र बिजनेस में एंट्री की। हालांकि शुरुआत में शास्त्री जी को इस बिजनेस में काफी नुकसान झेलना पड़ा था।

Phalada Agro
Image source – Website

ऐसा इसलिए क्योंकि उस समय बायो-फ़र्टिलाइज़र्स के लिए कोई मार्केट नहीं थी। CMN Shastry के बेटे और कंपनी के मैनेजिंग डायेरक्टर सूर्या के अनुसार जब वो फ़र्टिलाइज़र्स को किसानों के पास बेचने के लिए गए तो उन्हें कोई खरीदार नहीं मिला।

यहीं नहीं उस समय इस तरह की भी धाराणा था कि आर्गेनिक फार्मिंग निम्न स्तर है। किसानों को फार्मेंगि के नए तरीकों को अपनाने में उलझन हो रही थी। हालांकि साल 2002 तक शास्त्री जी ने फ़र्टिलाइज़र्स बेचना जारी रखा।

2002 में जब भारत ने आर्गेनिक फार्मिंग में पकड़ बनानी शुरु की तो Phalada कंपनी ने आर्गेनिक कॉफी उगाने वाले 20 प्रोडूसर के साथ टॉयअप कर लिया। उन्हें लगा कि इंटरनेशनल मार्केट में एंट्री करने के लिए आर्गेनिक कॉफी सबसे आसान रास्ता है, हालांकि हकीकत इस से बिल्कुल अलग थी। जिस वजह से उन्हें एक बार फिर अपने प्लान में बदलाव करना पड़ा।

Suggested For You 
Bootstrap Media Preview
Seven Raj : दुनिया का सबसे अलग परिवार - रेड एंड वाइट फैमिली

Intercrop System बना बिजनेस के लिए वरदान

सूर्या के अनुसार कॉफी प्लांटेशन के दौरान इंटरक्रॉप सिस्टम उनके लिए एक वरदान साबित हुआ। ऐसा इसलिए क्योंकि भले ही कॉफी डिमांड उनके प्लान को मैच नहीं कर रही थी, लेकिन उस समय भी मसालों की मांग बहुत ज्यादा थी। खासतौर पर मिर्ची की मांग, जिसकी मार्केट में एक अच्छी कीमत थी।

इंटरक्रॉप की इसी मांग ने Phalada को एक नई उम्मीद दी। इस बात से किसान भी काफी ज्यादा खुश थे कि यहां ऑर्गेनिक मसालों के लिए मार्केट है।

Phalada Agro
Image Source – Instagram

शुरुआत में फार्मिंग के लिए फ़र्टिलाइज़र तैयार करने वाली कंपनी आज चौदह सौ से ज्यादा किसानों के साथ देश के 10 हजार हेक्टेयर से ज्यादा जमीन को कवर करती है। Phalada के साथ काम करने वाले ज्यादातर किसान साउथ इंडिया से है, हालांकि कंपनी के कई प्रोजेक्ट कश्मीर, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में भी हैं। सूर्या के अनुसार उनकी कंपनी के सारे प्रोजेक्ट कस्टमर्स की डिमांड पर निर्भर करते हैं।

USA, Germany में एक्सप्रोर्ट होते हैं Products

आज के समय में Phalada Agro देश में आर्गेनिक मसाले, हर्बस, ऑयल के सबसे बड़े एक्सप्रोटर्स में से एक हैं। साल 2011 में कंपनी ने घरेलू बाजार के लिए ‘Phalada Pure & Sure’ ब्रांड के नाम से प्रोडेक्ट लांच किए थे।

जिस कंपनी ने महज 10 प्रोडेक्ट्स से शुरुआत की थी आज वो 160 ऐसे प्रोडेक्ट्स को बाजार में बेचती है जो भारतीय परिवारों में रोजाना इस्तेमाल किये जाते हैं। Phalada कंपनी अपने आर्गेनिक प्रोडेक्ट्स को 20 से ज्यादा देशों में एक्सपोर्ट कर रही है जिस में यूएस, जर्मनी, स्विजरलैंड, इटली और फ्रांस जैसे देश शामिल हैं।

Phalada Agro
Image source – Website

कंपनी के साथ आज ज्यादा से ज्यादा किसान जुड़ने के लिए आगे आ रहे हैं। Phalada के साथ जुड़ने से किसानों को उनकी फसलों का बेहतर दाम मिलता है जिससे उनके जीवन स्तर में सुधार आ रहा है, वहीं कंपनी आने वाले समय में अपने ब्रांड को और मजबूत बनाने और नए स्टोर खोलने पर काम करना चाहती है।

Phalada Agro Research Foundation Pvt. Ltd के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए चेक करें – Website, Instagram.

Pure & Sure (A retail brand by Phalada Agro) के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए चेक करें – Website, Facebook, LinkedIn, YouTube

अगर आप किसी भी प्रेरणात्मक कहानी के बारे में जानते है, और आप चाहते है की हम उसके बारे में mad4india.com पर लिखे। ऐसी जानकारी शेयर करने के लिए आप हमें Facebook या LinkedIn  पे संपर्क कर सकते है। वो प्रेरणात्मक कहानी किसी भी व्यक्ति, कंपनी, नए आईडिया या सोशल पहल के बारे में हो सकती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.